Vivo Z1x का रिव्यू

Vivo Z1x Review in Hindi: 16,990 रुपये की शुरुआती कीमत वाला वीवो ज़ेड1एक्स एक बेहतर स्मार्टफोन हैं? आइए जानते हैं विस्तार से फोन के बारे में...

Share on Facebook Tweet Share Reddit आपकी राय
Vivo Z1x का रिव्यू

Vivo Z1x Review in Hindi: वीवो ज़े1एक्स का रिव्यू

ख़ास बातें
  • Vivo Z1x Camera 32 मेगापिक्सल का सेल्फी कैमरा है इसमें
  • Vivo Z1x Battery में है 4,500 एमएएच की बैटरी
  • वीवो ज़ेड1एक्स में स्नैपड्रैगन 712 प्रोसेसर का हुआ है इस्तेमाल
Vivo Z1x Review in Hindi: हैंडसेट निर्माता कंपनी वीवो का लेटेस्ट स्मार्टफोन है Vivo Z1x। वीवो ज़ेड1एक्स बेहतर कैमरा हार्डवेयर, एमोलेड स्क्रीन और सिक्योरिटी के लिए इन-डिस्प्ले फिंगरप्रिंट सेंसर से लैस है। 16,990 रुपये की शुरुआती कीमत वाला Vivo Z1x एक बेहतर स्मार्टफोन हैं? हमने फोन के कैमरा, डिस्प्ले, प्रोसेसर आदि को टेस्ट करके देखा है तो आइए अब आपको हैंडसेट से जुड़ी हर छोटी से छोटी जानकारी विस्तार से मुहैया कराते हैं...
 

Vivo Z1x का डिज़ाइन

वीवो के लेटेस्ट स्मार्टफोन वीवो ज़ेड1एक्स का डिज़ाइन थोड़ा फ्लैशी है। हमारे रिव्यू यूनिट का रियर पैनल फैंटम पर्पल के साथ आता है, ऊपर और मध्य में पर्पल के लाइट शेड की झलक देखने को मिलेगी। बैक पैनल की सतह ग्लॉसी और थोड़ी रिफ्लेक्टिव है, जिस वज़ह से फोन पर धूल और धब्बे आसानी से पड़ जाते हैं। फ्रेम पॉलीकार्बोनेट से बना है और यह फ्लैट रियर पैनल के साथ आसानी से मिल जाता है।


फोन के फ्रंट पैनल पर छोटा वाटरड्रॉप-नॉच है, नॉच के ठीक ऊपर ईयरपीस है जो काफी पतला है। वीवो जे़ड1एक्स का डिस्प्ले Schott Xensation 3D ग्लास से प्रोटेक्टेड है जो कॉर्निंग गोरिल्ला ग्लास का विकल्प है। वॉल्यूम और पावर बटन को फोन के दाहिनी ओर तो वहीं Google Assistant बटन और डुअल-नैनो कार्ड ट्रे को फोन के बायीं ओर जगह मिली है।
 
vivo

स्पीकर, यूएसबी टाइप-सी पोर्ट, 3.5 मिलीमीटर हेडफोन जैक और माइक फोन के निचले हिस्से में स्थित हैं। Vivo Z1 Pro की तुलना में छोटा और हल्का होने के बावजूद अभी भी Vivo Z1x बड़ा और वज़नदार (189.6 ग्राम) है। फोन को एक हाथ से इस्तेमाल करना आसान नहीं है जब तक कि आपके हाथ बड़े न हो, डिस्प्ले के ऊपरी हिस्से में कंटेंट तक पहुंचने के लिए हाथ को स्ट्रैच करना पड़ता है। फोन का बाहरी हिस्सा थोड़ा स्लिपरी है।

कुछ लोगों चमकदार रियर पैनल के बजाय गोल्ड ब्रांडिंग द्वारा प्रदान किए कॉन्ट्रास्ट को पसंद कर सकते हैं, लेकिन हमें फोन में बहुत अधिक चमक पसंद नहीं  है। Vivo Z1x की बिल्ड क्वालिटी अच्छी है, लेकिन एर्गोनॉमिक्स बेहतर हो सकता था। वीवो ज़ेड1एक्स के दो कलर वेरिएंट उतारे गए हैं, फ्यूजन ब्लू और फैंटम पर्पल।
 

Vivo Z1x specifications और सॉफ्टवेयर

वीवो ज़ेड1एक्स में 6.38 इंच का फुल-एचडी+ सुपर एमोलेड (1080x2340 पिक्सल) डिस्प्ले है, यह 430 निट्स ब्राइटनेस के साथ आती है। इसका आस्पेक्ट रेशियो 19.5:9 और स्क्रीन-टू-बॉडी रेशियो 90 प्रतिशत है। Vivo ब्रांड के इस लेटेस्ट स्मार्टफोन में क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 712 प्रोसेसर का इस्तेमाल किया गया है।

याद करा दें कि इसी चिपसेट का इस्तेमाल Vivo Z1 Pro में भी हुआ था। वीवो ज़ेड1एक्स के दो स्टोरेज वेरिएंट हैं, एक 64 जीबी स्टोरेज के साथ जिसकी कीमत 16,990 रुपये है तो वहीं दूसरे वेरिएंट  में 128 जीबी स्टोरेज है और इसका दाम 18,000 रुपये तय किया गया है। गौर करने वाली बात यह है कि स्टोरेज को बढ़ाने के लिए माइक्रोएसडी कार्ड का विकल्प नहीं मिलेगा तो ऐसे में 128 जीबी स्टोरेज वेरिएंट को खरीदना सही रहेगा।
 
vivo

Vivo Z1x की सबसे अहम खासियत है ट्रिपल रियर कैमरा सेटअप। पिछले हिस्से पर 48 मेगापिक्सल का प्राइमरी कैमरा जो Sony IMX582 सेंसर से लैस है, इसके साथ 120.4 डिग्री फील्ड ऑफ व्यू वाला 8 मेगापिक्सल का सुपर वाइड-एंगल कैमरा है। और साथ में 2 मेगापिक्सल का डेप्थ कैमरा भी दिया गया है।

वीवो ज़ेड1एक्स में सेल्फी और वीडियो कॉलिंग के लिए 32 मेगापिक्सल का सेंसर दिया है, इसका अपर्चर एफ/2.0 है। फोन में जान फूंकने के लिए 4,500 एमएएच की बैटरी दी गई है जो 22.5 वॉट की फ्लैशचार्ज टेक्नोलॉजी को सपोर्ट करेगी। रिटेल बॉक्स में आपको 22.5 वॉट का चार्जर मिलेगा। सिक्योरिटी के लिए फोन में इन-डिस्प्ले फिंगरप्रिंट सेंसर है, इसे लेकर दावा किया गया है कि यह फोन को सिर्फ 0.42 सेकेंड में अनलॉक कर देता है।

फनटच ओएस एंड्रॉयड का हेवेली कस्टमाइज्ड वर्जन है जो एस्थेटिक्स और सेटिंग्स ऐप में टूल के लोकेशन आदि के आइकन आदि सभी को बदल देता है। यह सभी क्विक सेटिंग्स बटन को आईओएस की तरह शार्टकट सेंटर में मूव कर देता है जिसे स्क्रीन के निचले हिस्से से ऊपर की ओर स्वाइप करके एक्सेस किया जा सकेगा।

कुछ यूआई एलीमेंट यूज़र्स को परेशान करते हैं  जैसे कि अधिक ब्राइटनेस और साउंड प्रोफाइल बार बहुत जगह घेरता है, जिस वज़ह से यूज़र्स को लोकेशन, लो-पावर मोड और एयरप्लेन मोड बटन के लिए नीचे तक स्क्रॉल करना पड़ता है। कस्टम फनटच ओएस नेविगेशन जेस्चर हाफ-बेक्ड लगे। आश्चर्यजनक रूप से फोन में यदि आप जेस्चर आदि का इस्तेमाल नहीं करना चाहते तो एंड्रॉयड नेविगेशन बटन भी दिए गए हैं।
 
vivo

फोन में ऐप ड्रावर नहीं है, होम स्क्रीन पर बायीं ओर स्वाइप करने पर Jovi स्मार्ट सीन पेज खुलता है जिसमें आपको कैलकुलेटर और वॉयस रिकॉर्डर, प्लस न्यूज़ हेडलाइन, वेदर अपडेट, टू-डू लिस्ट विजेट जैसे टूल के शार्टकट मिलते हैं। फनटच ओएस में कुछ निफ्टी टूल भी हैं। उदाहरण के लिए, आप जल्दी से होम स्क्रीन पर कंपैटिबल ऐप का ही एक दूसरा ऐप (कह लीजिए डुअल-ऐप) तैयार कर सकते हैं और आसानी से स्क्रॉलिंग स्क्रीनशॉट खींच सकते हैं।

इसके अलावा फोन में आपको फाइल सेफ फीचर मिलेगा जिसकी मदद से यूज़र मीडिया फाइल, दस्तावेज और अन्य चीजों को हाइड कर सकते हैं। फोन में डार्क मोड को भी जोड़ा गया है, एमोलेड पैनल के साथ आमतौर पर ब्लैक बैंकग्राउंड उपयोगी होता है लेकिन फनटच आपको डार्क शेड ऑफ ग्रे प्रदान करेगा।

इसके अलावा स्मार्ट मोशन टूल और स्प्लिट स्क्रीन शार्टकट भी दिया गया  है। हालांकि फोन में कई ब्लोटवेयर हैं जैसे कि इन-हाउस ऐप जिन्हें अनइंस्टॉल नहीं किया जा सकता है और Gaana, WebNovel, PhonePe, Paytm, Facebook और Opera जैसे कुछ थर्ड-पार्टी ऐप्स दिए गए हैं।  फोन में कुछ गेमिंग टूल्स भी दिए गए हैं।
 
vivo

गेम पिक्चर-इन-पिक्चर टूल बिना गेम को बंद किए मैसेजिंग ऐप्स के लिए एक फ्लोटिंग विंडो खोल देता है। अल्ट्रा गेम मोड फोन का गेमिंग हब है और यह नोटिफिकेशन कंट्रोल का क्विक एक्सेस देता है। ऑफ-स्क्रीन ऑटोप्ले इस बात को सुनिश्चित करता है कि स्क्रीन बंद होने पर गेम चलता रहे। फोन को इस्तेमाल के दौरान हमें विज्ञापन और स्पैमी नोटिफिकेशन दिखाई नहीं दिए। हमारा रिव्यू यूनिट जुलाई सिक्योरिटी पैच पर चलता है लेकिन हम उम्मीद करते हैं कि फोन की बिक्री से पहले कंपनी अपडेट को रोल आउट कर देगी।
 

Vivo Z1x डिस्प्ले और परफॉर्मेंस

वीवो ज़ेड1एक्स में सुपर एमोलेड पैनल है, यह ब्राइट और किस्प है और इसपर कलर व्राइबेंट नज़र आते हैं। लेकिन सेटिंग्स ऐप में जाकर कलर मोड और टेंपरेचर को एडजस्ट किया जा सकता है। व्यूइंग एंगल भी काफी अच्छे हैं। दिन की रोशनी में हमें ईमेल और सोशल मीडिया ऐप्स को आसानी से इस्तेमाल करने पर ब्राइटनेस को आधे से ज्यादा बढ़ाने की जरूत नहीं पड़ी।

Vivo का दावा है कि फोन में लो ब्राइटनेस मोड दिया गया है, जो डीसी डिमिंग की तरह ही है। इन-डिस्प्ले फिंगरप्रिंट सेंसर काफी तेज़ है। रिव्यू के दौरान हमें फिंगरप्रिंट रिकग्निशन की सटीकता को लेकर कोई समस्या नहीं हुई। Vivo Z1x में स्नैपड्रैगन 712 प्रोसेसर है जो एक विश्वसनीय परफॉर्मर साबित हुआ। यह दिनभर के सभी टॉस्क, हैवी मल्टीटास्किंग और गेम्स को आसानी से हैंडल कर लेता है।
 
vivo

बेंचमार्क स्कोर बताते हैं कि जब सीपीयू परफॉर्मेंस की बात आती है तो यह Snapdragon 710 की तुलना में तेज़ है। मीडिया परफॉर्मेंस की बात करें तो फोन के स्पीकर से आवाज सही आती है लेकिन वॉल्यूम 80 प्रतिशत से अधिक होने पर डिस्टॉर्शन का अहसास होता है। फोन के साथ मिलने वाले हेडसेट का डिज़ाइन ऐप्पल ईयरपोड्स के डिज़ाइन के समान है, यह कॉल और म्यूज़िक सुनने के लिए सही है लेकिन इससे अच्छे बास रिस्पांस या वोकल क्लैरिटी की उम्मीद ना करें।

PUBG Mobile और Asphalt 9 गेम बॉय डिफॉल्ट हाई ग्राफिक्स पर सेट थी और वीवो जे़ड1एक्स ने स्मूथ गेमप्ले अनुभव दिया। Mortal Kombat और Injustice Gods Among Us गेम्स भी तेज़ी से चली। वीवो जेड1एक्स के थर्मल परफॉर्मेंस से हम आश्चर्यचकित थे, क्योंकि 30-50 मिनट खेलने के बाद भी फोन में केवल न्यूनतम हीटिंग थी।
 

Vivo Z1x cameras और बैटरी लाइफ

वीवो ज़ेड1एक्स के पिछले हिस्से पर 48 मेगापिक्सल का प्राइमरी कैमरा है जो Sony IMX582 सेंसर से लैस है। इसके साथ 120.4 डिग्री फील्ड ऑफ व्यू वाला 8 मेगापिक्सल का सुपर वाइड-एंगल कैमरा है। और साथ में 2 मेगापिक्सल का डेप्थ कैमरा भी दिया गया है। रियर कैमरा दिन की रोशनी में वाइब्रेंट पिक्सल-बाइनिंग तस्वीरें खींचता है।  

फोन तेजी से फोकस कर लेता है और यह काफी हद तक सटीक था। लैंडस्केप तस्वीरें हालांकि ओवरप्रोसेस्ड लगी जिनमें डिटेल की कमी थी। Redmi K20 (रिव्यू) में भी समान 48 मेगापिक्सल का कैमरा सेंसर है, यह सटीक रंग और अधिक डिटेल के साथ बेहतर तस्वीरें खींचता है। नेटिव एआई ब्यूटी मोड कुछ हद तक डायनामिक रेंज समस्या के साथ मदद करता है, जिससे तस्वीर ज्यादा वाइब्रेंट आती है।
 
vivo

दूसरी ओर, लो-लाइट तस्वीरों में नॉयस के साथ ग्रेन भी नज़र आए। नाइट  मोड फ्रेम में कुछ कलर को जोड़ देता है और एलीमेंट थोड़े शार्प दिखे। Redmi Note 7 Pro और Motorola One Vision (रिव्यू) लो-लाइट में बेहतर परफॉर्म करते हैं।

वाइड-एंगल कैमरा की मदद से एक सीन में ज्यादा लोगों और ऑब्जेक्ट को कैप्चर किया जा सकता है। वाइड-एंगल तस्वीरें डिम और कम शार्प लगीं। यूज़र चाहें तो 48 मेगापिक्सल की तस्वीरें 4:3 आस्पेक्ट रेशियो में भी कैप्चर कर सकते हैं। फुल-रिजॉल्यूशन वाली तस्वीरों में पिक्सल-बाइनिंग वाली 16 मेगापिक्सल वाली तस्वीरों की तुलना में अधिक डिटेल कैप्चर हुई।
selfie
img
img
img

पोर्ट्रेट शॉट्स में सब्जेक्ट और बैकग्राउंड के बीच अंतर सही था लेकिन ब्लर इफेक्ट अस्थिर था। प्री-लोडेड एल्बम ऐप में पोर्ट्रेट फोटो कैप्चर करने के बाद भी ब्लर इफेक्ट को एडजस्ट किया जा सकता है। सीन मोड, एआर स्टिकर, शॉर्ट वीडियो के लिए डायनामिक फिल्टर  और लाइव फोटो जैसे फीचर्स के साथ पोर्ट्रेट लाइटिंग इफेक्ट भी हैं।

32 मेगापिक्सल का फ्रंट कैमरा सही रंग के साथ क्रिस्प सेल्फी खींचता है। बोकेह इफेक्ट के साथ सेल्फी अच्छी आईं। अब बात वीडियो की। फोन 30 फ्रेम प्रति सेकेंड पर 4K और 1080 रिजॉल्यूशन की वीडियो बनाने में सक्षम है, जो थोड़ा निराश कर सकता है। क्योंकि कम कीमत में आने वाले फोन 60 फ्रेम प्रति सेकेंड पर फुल-एचडी वीडियो रिकॉर्ड करते हैं।

वीडियो क्वालिटी की बात करें तो 1080 रिजॉल्यूशन की वीडियो स्टेबलाइज्ड आई और कलर रिप्रोडक्शन भी सही था। वाइड-एंगल कैमरा 1080 रिजॉल्यूशन पर वीडियो रिकॉर्ड करता  है। Vivo Z1x में जान फूंकने के लिए 4,500 एमएएच की बैटरी दी गई है जो आराम से एक दिन तक चली। यहां तक हाई-ग्राफिक्स सेटिंग्स पर दो घंटे तक PUBG Mobile को खेला, कॉलिंग, सोशल मीडिया यूसेज और वायर हेडफोन के माध्यम से तीन घंटे तक म्यूजिक सुनकर देखा और पूरा दिन इंटरनेट कनेक्टिविटी के बाद दिन के अंत में फोन में लगभग 30 प्रतिशत बैटरी शेष थी।

हमारे एचडी वीडियो लूप टेस्ट में, फोन ने बंद होने से पहले 18 घंटे और 52 मिनट तक साथ दिया। फोन के साथ मिलने वाला 22.5 वॉट का चार्जर फोन को 0 से 50 प्रतिशत केवल 38 मिनट में और फोन को पूरा चार्ज करने में लगभग डेढ़ घंटे का समय लेता है।
 

हमारा फैसला

वीवो जेड1एक्स का डिज़ाइन काफी आकर्षक है। फोन की बिल्ड क्वालिटी मजबूत है लेकिन फोन काफी बड़ा है। Vivo Z1x का एमोलेड डिस्प्ले काफी प्रभावशाली है। फोन की सामान्य परफॉर्मेंस को लेकर भी कोई समस्या नहीं है, ग्राफिक्स-इंटेंसिव गेम्स बिना अटके चली। कीमत को देखते हुए कैमरा आउटपुट सही था लेकिन Realme X (रिव्यू) और Redmi Note 7 Pro (रिव्यू) बेहतर रिजल्ट देते हैं। फोन की बैटरी लाइफ अच्छी है और हमारे एचडी वीडियो लूप टेस्ट में फोन ने काफी अच्छा परफॉर्म किया था।

वीवो Z1x अपने भाई-बहनों के लिए एक सार्थक कदम है, लेकिन एक प्रीमियम कमांड के बावजूद कैमरा विभाग में बेहतर प्रदर्शन करता है। अगर आप बेस वेरिएंट पर विचार कर रहे हैं तो एक्सपेंडेबल स्टोरेज की कमी भी एक समस्या हो सकती है। वीवो ज़ेड1एक्स का बेस वेरिएंट लेने वाले ग्राहकों को समस्या हो सकती है क्योंकि फोन में स्टोरेज को बढ़ाने के लिए विकल्प नहीं है।

16,990 रुपये की शुरुआती कीमत वाला वीवी ज़ेड1एक्स निश्चित रूप से एक आकर्षक विकल्प है। हालांकि, इस कीमत में वीवो ब्रांड के इस फोन को Realme X, रेडमी नोट 7 प्रो, Oppo K3 (रिव्यू) जैसे स्मार्टफोन टक्कर देंगे।
  • डिज़ाइन
  • डिस्प्ले
  • सॉफ्टवेयर
  • परफॉर्मेंस
  • बैटरी लाइफ
  • कैमरा
  • वैल्यू फॉर मनी
  • खूबियां
  • Excellent performance
  • Great battery life
  • Rapid fast charging
  • कमियां
  • Large and bulky
  • Poor night mode
  • Funtouch OS needs refinement
  • No expandable storage
डिस्प्ले6.38 इंच
फ्रंट कैमरा32-मेगापिक्सल
रियर कैमरा48-मेगापिक्सल + 8-मेगापिक्सल + 2-मेगापिक्सल
रैम6 जीबी
स्टोरेज64 जीबी
बैटरी क्षमता4500 एमएएच
ओएसएंड्रॉ़यड
रिज़ॉल्यूशन1080
आपकी राय

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें।

संबंधित ख़बरें

पढ़ें: English
 
 

ADVERTISEMENT

 
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2019. All rights reserved.