Motorola One Vision का रिव्यू

Motorola One Vision Review: क्या 19,999 रुपये में Motorola One Vision एक अच्छा अनुभव प्रदान करता है, आइए जानते हैं?

Share on Facebook Tweet Share Reddit आपकी राय
Motorola One Vision का रिव्यू

Motorola One Vision Review: मोटोरोला वन विज़न का रिव्यू

ख़ास बातें
  • Motorola One Vision की बैटरी 3,500 एमएएच की है
  • एक्सीनॉस 9609 प्रोसेसर से लैस है Motorola One Vision
  • 25 मेगापिक्सल का सेल्फी सेंसर है मोटोरोला वन विज़न में
Motorola ने मिड-रेंज़ सेगमेंट में एक नए स्मार्टफोन Motorola One Vision को उतारा है जो कई फीचर्स से लैस तो है ही लेकिन साथ ही यह किफायती कीमत में स्टॉक एंड्रॉयड का अनुभव भी देगा। हैंडसेट निर्माता कंपनियों के बीच प्रतिस्पर्धा बढ़ती जा रही है और अब Samsung भी अपनी रणनीति पर फिर से काम कर रही है। Motorola One Vision कंपनी की Moto G-सीरीज़ की तुलना में ज्यादा प्रीमियम लगता है। Motorola One Vision मॉर्डन डिजाइन और अपग्रेड कैमरा हार्डवेयर के साथ उतारा गया है।

फोन का होल-पंच कैमरा फीचर अभी भी आमतौर पर केवल हाई-एंड फोन पर देखने को मिलता है। कागज़ी तौर पर कैमरा हार्डवेयर भी प्रभावशाली है और साथ ही इसमें कई काम कके कैमरा फीचर्स दिए गए हैं जिनका आप इस्तेमाल कर सकते हैं। क्या 19,999 रुपये में Motorola One Vision एक अच्छा अनुभव प्रदान करता है, आइए जानते हैं?
 

Motorola One Vision का डिजाइन

मोटोरोला स्मार्टफोन में एक नए डिज़ाइन के साथ Motorola One Vision को उतारा गया है। मोटोरोला वन विज़न कर्व्ड ग्लास प्रोफाइल के साथ घुमावदार किनारों और ग्रेडिएंट डिज़ाइन के साथ आता है। Motorola One Vision के दो कलर वेरिएंट उतारे गए हैं- ब्रॉन्ज ग्रेडिएंट और सेफायर ग्रेडिएंट। दोनों ही मॉडल के बैक पैनल का मध्य हिस्सा डार्क है।

करीब से जांचने पर आपको बैक पैनल पर पतली लाइन दिखाई देंगी जो ग्लॉसी लेयर के नीचे हैं। Motorola One Vision का डिज़ाइन भी काफी आकर्षक है। फोन के पिछले हिस्से पर नीचे की ओर आपको एंड्रॉयड वन लोगो और फिंगरप्रिंट सेंसर में M लिखा नज़र आएगा। फोन का कैमरा उभरा हुआ है और बैक पैनल पर धब्बे भी आसानी से पड़ जाते हैं।
 
movback

डिजाइन के अलावा मोटोरोला वन विजन हाथ में आसानी से फिट हो जाता है। Motorola का कहना है कि यह फोन आईपी52 रेटेड है और यह अचानक से गिरने वाले लिक्विड छींटो को हैंडल कर लेता है। पावर बटन को फोन के दाहिनी ओर तो वहीं वॉल्यूम बटन को ठीक इसके ऊपर जगह मिली है, लेकिन इसे थोड़ा ऊपर प्लेस किया गया है जिस वज़ह से हाथ को बटन तक पहुंचने में थोड़ी समस्या हुई।

Motorola One Vision भारत में पहला ऐसा फोन नहीं है जिसे होल-पंच डिस्प्ले के साथ उतारा गया हो। Honor 20, सैमसंग Galaxy S10, Galaxy M40 (रिव्यू) और Nokia X71 सहित कई फोन में आपको होल-पंच डिस्प्ले मिलेगी। Motorola One Vision 21:9 आस्पेक्ट रेशियो के साथ आता है और हमने कई Sony ब्रांड के फोन देखे हैं जो 21:9 आस्पेक्ट रेशियो के साथ आते हैं जैसे कि Xperia 1 और Xperia 10, इन्हें अभी तक भारत में लॉन्च नहीं किया गया है।


मोटोरोला का दावा है कि Netflix और YouTube पर वीडियो देखने के लिए 21:9 आस्पेक्ट रेशियो अनुकूल है। बड़ी संख्या में फिल्म निर्माता 21:9 फॉर्मेट को पसंद करते हैं। कंपनी ने इसे सिनेमाविज़न डिस्प्ले का नाम दिया है। लंबे आस्पेक्ट रेशियो के कुछ फायदे और कुछ कमियां भी हैं।

फोन की छोटी प्रोफाइल की वज़ह से फोन हाथ में आसानी से फिट हो जाता है। वहीं, दूसरी ओर लंबी डिस्प्ले होने की वज़ह से स्क्रीन के ऊपरी हिस्से में कंटेंट तक हाथ पहुंचने में समस्या होती है। हमने पाया कि स्क्रीन के ऊपरी हिस्से का कम से कम एक तिहाई हिस्से तक अंगूठे को पहुंचने में समस्या हुई।
 
movcamera

कई स्मार्टफोन में फुल-स्क्रीन डिज़ाइन देने के मकसद से कैमरा क्रिएटिवली प्लेस किया गया है, इनकी तुलना में Motorola One Vision के ऊपरी हिस्से पर दिया बेज़ल और निचले हिस्से पर बॉर्डर थोड़ा मोटा है। दूसरी ओर, फ्रंट कैमरे के चारों ओर सर्कुलर बॉर्डर मोटा है जिस वज़ह से यह काफी बड़ा लग रहा है।

फोन के बायीं ओर हाइब्रिड डुअल-सिम (नैनो) ट्रे, जिसमें 512 जीबी तक के सपोर्ट वाला माइक्रोएसडी कार्ड लगाया जा सकता है। यूएसबी टाइप-सी पोर्ट और स्पीकर को फोन के निचले हिस्से पर तो वहीं 3.5 मिलीमीटर हेडफोन जैक को फोन के ऊपरी हिस्से में जगह मिली है।
 

Motorola One Vision स्पेसिफिकेशन

मोटोरोला वन विज़न फोन में 6.3 इंच का फुल-एचडी+ (1080x2520 पिक्सल) डिस्प्ले है, 21:9 सिनेमाविज़न आस्पेक्ट रेशियो के साथ। यह कॉर्निंग गोरिल्ला ग्लास 3 से प्रोटेक्टेड है। Motorola ब्रांड के इस हैंडसेट में ऑक्टा-कोर सैमसंग एक्सीनॉस 9609 प्रोसेसर के साथ ग्राफिक्स के लिए माली जी72 एमपी3 जीपीयू का इस्तेमाल किया गया है।

Motorola One Vision में Samsung Galaxy A50 की तुलना में थोड़े कमज़ोर प्रोसेसर का इस्तेमाल हुआ है। याद करा दें कि सैमसंग गैलेक्सी ए50 में सैमसंग एक्सीनॉस 9610 चिपसेट है। दोनों ही प्रोसेसर के आर्किटेक्चर एक जैसे हैं और जब बात इनकी क्षमताओं की आती है तो इनमें बहुत कुछ समान बाते हैं।
 
movbottom

मोटोरोला वन विज़न में 4 जीबी रैम दिए गए हैं और इनबिल्ट स्टोरेज 128 जीबी है। Motorola One Vision का केवल एक ही वेरिएंट है। मोटोरोला ब्रांड के इस हैंडसेट की बैटरी 3,500 एमएएच की है और यह 15 वाट टर्बोपावर फास्ट चार्जिंग को सपोर्ट करती है। अब बात कैमरा सेटअप की। Motorola One Vision में पिछले हिस्से पर एफ/ 1.7 अपर्चर वाला 48 मेगापिक्सल कैमरा है।

हैंडसेट का प्राइमरी सेंसर Samsung Isocell GM1 है जो क्वाड पिक्सल तकनीक- पिक्सल बाइनिंग का इस्तेमाल करता है। इसका मतलब यह चार पिक्सल को एक बनाने का काम करता है। 48 मेगापिक्सल कैमरा सेंसर के साथ जुगलबंदी में 5 मेगापिक्सल का डेप्थ कैमरा काम करेगा। फोन में ऑप्टिकल इमेज़ स्टेबलाइजेशन फीचर भी मौजूद है।

फोन के फ्रंट पैनल पर एफ/ 2.0 अपर्चर वाला 25 मेगापिक्सल का सेल्फी कैमरा है। यह भी पिक्सल बाइनिंग तकनीक का इस्तेमाल कर कम रिजॉल्यूशन में ब्राइट सेल्फी देता है। Motorola One Vision में कई कैमरा फीचर्स दिए गए हैं जैसे कि पोर्टेट मोड, नाइट विजन, लाइव फ़िल्टर और स्लो-मो वीडियो।

इसके अलावा 'स्पॉट कलर ' फीचर भी है जिसकी मदद से यूज़र एक फ्रेम में एक विशेष कलर का चयन कर उसे हाइलाइट कर सकते हैं और बाकी तस्वीर को ग्रेस्केल में रखकर आर्टिस्टिक इफेक्ट दे सकते हैं। मोटोरोला वन विज़न स्टॉक एंड्रॉयड पर चलता है और यह एंड्रॉयड वन प्रोग्राम का हिस्सा है।
 
onevisionback

इसका मतलब यह हुआ कि अगले तीन वर्षों तक इसे सिक्योरिटी अपडेट मिलते रहने की गारंटी है और एंड्रॉयड पाई के बाद दो प्रमुख ओएस अपग्रेड भी। हमारा रिव्यू यूनिट जून सिक्योरिटी पैच के साथ एंड्रॉयड पाई पर चल रहा है। बिना किसी स्पैम नोटिफिकेशन और विज्ञापनों के ब्लोटवेयर-फ्री यूआई स्टॉक एंड्रॉइड का सबसे बड़ा फायदा है।

मोटोरोला फोन में सिर्फ बेसिक ऐप्स और पहले से इंस्टॉल किए गए गूगल ऐप्लिकेशन मिलेंगे। मोटोरोला की ओर से फोन में मोटो ऐप दिया गया है जिसकी मदद से मोटो एक्शन और मोटो डिस्प्ले को एक्सेस किया जा सकता है। सपोर्ट और ट्रबलशूटिंग के लिए मोटो हेल्प ऐप भी है।

मोटो एक्शन मोटोरोला जेस्चर हैं, जैसे कि कैमरा ऐप खोलने के लिए डबल-रिस्ट ट्विस्ट, फ्लैशलाइट ऑन करने के लिए डबल-चॉप जेस्चर और स्क्रीनशॉट लेने के लिए तीन-उंगलियों को टैप करना होगा। मोटोरोला वन विज़न में मोटो एक्शन में एक नए 'वन बटन नेव' फीचर को जोड़ा गया है, जो आईओएस और एंड्रॉइड क्यू के नेविगेशन जेस्चर का मिश्रण लग रहा है।
 
onevisionfront

होम बटन पर सिंगल टेप से आप होम स्क्रीन पर पहुंच जाएंगे तो वहीं ऊपर की ओर स्वाइप करने पर मल्टीटास्किंग इंटरफ़ेस खुल जाता है। बायीं ओर स्वाइप करने पर बेक जेस्चर जबकि दाहिनी ओर स्वाइप करने पिछले ऐप पर खुल जाता है। जेस्चर-आधारित नेविगेशन स्मूथ है। इसके अलावा आपको डिजिटल वेलबींग, अडैप्टिव ब्राइटनेस और अडैप्टिव बैटरी जैसे एंड्रॉयड पाई के कुछ फीचर्स मिलेंगे।
 

Moto One Vision का डिस्प्ले और परफॉर्मेंस

परफॉर्मेंस की बात करने से पहले सबसे इसमें दिए 21: 9 डिस्प्ले के बारे में बात करते हैं। लैंडस्केप मोड में 21:9 वीडियो देखते वक्त अच्छा लगता है, इसके अलावा आपको ज्यादा स्क्रीन स्पेस मिलता है जब आप स्प्लिट व्यू में एक साथ दो ऐप्स का उपयोग करते हैं। भले ही पंच-होल ऑन-स्क्रीन कंटेंट का एक छोटा सा हिस्सा ब्लॉक करता है, लेकिन फिल्म या टीवी सीरीज़ देखने का अनुभव बेहतर रहा। वीडियो को देखने के अलावा हमें यह तथ्य भी पसंद आया कि वेब ब्राउजिंग करते समय भी हम ज्यादा कंटेंट को देख सकते हैं।

Motorola One Vision का डिस्प्ले सिनेमेटिक व्यूइंग के लिए कुछ ज्यादा ही चोड़ा है, लेकिन हमें पसंद आया। बता दें कि तकरीबन 70 प्रतिशत Netflix ऑरिज़नल 21:9 फॉर्मेंट में ही शूट हुए हैं। रनिंग गेम के साथ कुछ स्केलिंग समस्या भी आई। उदाहरण के लिए, गेमिंग के दौरान 21: 9 डिस्प्ले में दिया होल कुछ ऑन-स्क्रीन बटन को कवर कर देता है जिस वज़ह से समस्या हो सकती है।
 
movfront

बहुत से गेम 21:9 आस्पेक्ट रेशियो को सपोर्ट नहीं करते हैं, इसलिए आपको या तो मोटे ब्लैक बार के साथ काम चलाना होगा जो होल-पंच को छिपा देता है या तो गेम यदि अनुमित दे तो ऑन-स्क्रीन बटन की जगह को एडजस्ट किया जा सके। अगर नहीं तो होल उस जगह पर है जहां कुछ कंट्रोल दिए होते हैं। हमारे केस में हमें Asphalt 9: Legends खेलते समय ब्रेक बटन की जगह को एडजस्ट करना पड़ा। इसके अलावा सेल्फी कैमरा और इसके सर्कुलर बॉर्डर के पास हमने हल्की लाइट को नोटिस किया।

डिस्प्ले क्वालिटी की बात करें तो हमने पाया कि मोटोरोला वन विजन का फुल-एचडी+ आईपीएस पैनल अच्छी क्वालिटी का है। व्यूइंग एंगल अच्छे हैं और सूरज की रोशनी में डिस्प्ले में देखने में भी कोई समस्या नहीं हुई। एक बात जो आपको थोड़ा निराश कर सकती है वह यह है कि स्क्रीन के व्हाइट बैलेंस को एडजस्ट करने का कोई तरीका नहीं है।

यूज़र तीन कलर प्रोफाइ के बीच चयन कर सकते हैं- नेचुरल, बूस्टेड और सेचुरेटेड। हमने पाया कि सेचुरेटेड प्रोफाइल सबसे अच्छा है क्योंकि यह रंगों को एन्हॉन्स करता है और ऑन-स्क्रीन कंटेंट को वाइब्रेंट बनाता है। रिज़ॉल्यूशन शार्प कंटेंट को रेंडर करने के लिए पर्याप्त है। सैमसंग गैलेक्सी ए50 (रिव्यू) मोटोरोला फोन की कीमत से कम कीमत में उपलब्ध है और इसमें सुपर एमोलेड डिस्प्ले दिया गया है जिसकी कुम मिलाकर क्वालिटी बेहतर है।

अब बात करते हैं परफॉर्मेंस की। Motorola One Vision में 2.2 गीगाहर्ट्ज़ का ऑक्टा-कोर सैमसंग एक्सीनॉस 9609 प्रोसेसर दिया गया है। प्रोसेसर का चुनाव अनोर्थडाक्स, न केवल इसलिए क्योंकि इस प्राइस सेगमेंट में अधिकांश फोन स्नैपड्रैगन 6xx या मीडियाटेक पी-सीरीज़ प्रोसेसर के साथ आते हैं, बल्कि इसलिए भी क्योंकि मोटोरोला वन विज़न इस प्रोसेसर के साथ आने वाला पहला फोन है। गौर करने वाली बात यह है कि सैमसंग ने अभी तक एक्सीनॉस 9609 चिपसेट से लैस किसी भी फोन को अभी तक लॉन्च नहीं किया है।

जब बात इसकी डे-टू-डे परफॉर्मेंस की आती है तो एक्सीनॉस 9609 एक सक्षम चिपसेट साबित होता है। दिनभर इस्तेमाल करने पर हमें ऐसा बिल्कुल भी नहीं लगा कि फोन धीमा हुआ जबकि हमने मल्टीटास्किंग, वेब ब्राउजिंग आदि भी करके देखी। केवल इतना ही नहीं, यहां तक कि PUBG Mobile और Asphalt 9: Legends को हाई ग्राफिक्स सेटिंग्स पर खेलने पर भी हमारा अनुभव अच्छा था।
 

Moto One Vision का कैमरा और बैटरी लाइफ

कैमरा परफॉर्मेंस की बात करें तो मोटोरोला वन विजन में 48 मेगापिक्सल का रियर कैमरा दिया गया है जो खूबसूरत तस्वीरें तो खींचता ही है, साथ ही तस्वीरों डेप्थ और डिटेल भी अच्छे से कैप्चर हुई। तस्वीरें न केवल फोन की स्क्रीन पर अच्छी लगती हैं, बल्कि यह बड़े डिस्प्ले पर विविड दिखाई देती हैं। अन्य फोन की तरह, 48 मेगापिक्सल का प्राइमरी कैमरा बॉय डिफॉल्ट 12 मेगापिक्सल की चार तस्वीरें खींचता है जो पिक्सल-बाइनिंग तकनीक की मदद से एक तस्वीर बनाकर आपके सामने पेश करती है।  

निराश कर वाली बात यह है कि आप फुल 48 मेगापिक्सल रिजॉल्यूशन पर तस्वीरें नहीं खींच सकते हैं। बता दें कि रेडमी नोट 7 प्रो जिसमें भी समान तकनीक का इस्तेमाल हुआ है इसमें मैनुअली 48 मेगापिक्सल मोड चुनकर 48 मेगापिक्सल शॉट कैपचर कर सकते हैं। इसके अलावा पिक्सल-बाइनिंग वाले 12 मेगापिक्सल तस्वीरों में डिटेल और कलर्स भी अच्छे से दिखते हैं।
 
img
img
img
img
img

दिन की रोशनी में खींची गई तस्वीरें थोड़ी ओवर सेचुरेटेड आईं। अगर आप रीयलिस्टिक कलर्स के साथ गुड डायनामिक रेंज़ के फैन हैं तो Motorola One Vision आपको निराश कर सकता है। फोन दिन की रोशनी में डिफॉल्ट रूप से हाई एक्सपोज़र पर तस्वीरें लेता है। एचडीआर थोड़ी मदद करता है, क्योंकि यह रंग को एन्हॉन्स और शार्पनेस को बूस्ट करता है।

बता दें कि बॉय डिफॉल्ट ऑटो-एचडीआर मोड ऐनेबल रहता है लेकिन आपको मैनुअली इस बात का चयन करना होगा कि आप इसे एक्टिवेट रखना चाहते हैं या फिर डिसेबल। जब बात मैक्रो शॉट्स की आती है तो मोटोरोला वन विज़न का कैमरा प्रभावशाली रिज़ल्ट देता है, साथ ही एज डिटेक्शन भी अच्छा है। कैमरा कभी-कभी मैक्रो शॉट्स कैप्चर करते समय फोकस को लॉक करते वक्त स्ट्रगल करता है, लेकिन इसे कैमरे की दूरी और कैमरा एंगल को एडजस्ट करके हैंडल किया जा सकता है।

लॉन्ग-रेंज़ शॉट्स के साथ, मोटोरोला वन विज़न का कैमरे ऑब्जेक्ट को फोकस में हाइलाइट करता है लेकिन बैकग्राउंड और  परिफरल एलीमेंट में शार्पनेस की कमी लगी। हालांकि, फोन शाम के वक्त आकाश के विविड शेड्स को अच्छे से कैप्चर करता है, तस्वीरों में शार्पनेस भी सही थी। लेकिन बैकग्राउंड एलीमेंट में नॉयस का अनुभव हुआ।

Motorola One Vision का प्रभावशाली आस्पेक्ट इसकी कैमरा क्षमता है, फोन में आपको नाइट मोड मिलेगा जिसे नाइट विज़न नाम दिया गया है। फोन के लो-लाइट रिज़ल्ट भी काफी बेस्ट आए। नाइट विज़न मोड शार्पनेस को एन्हॉन्स और फ्रेम में डिटेल को बनाए रखने के साथ कलर्स और अन्य एलीमेंट को भी उभार कर रखता है। अगर Motorola One Vision के नाइट मोड की तुलना Redmi Note 7 Pro से की जाए तो यह रेडमी नोट 7 प्रो से बेहतर परफॉर्म करता है।

25 मेगापिक्सल का सेल्फी कैमरा भी अच्छा काम करता है, क्योंकि सेल्फी में डिटेल अच्छे से कैप्चर हुई और तस्वीरें भी क्रिस्प आईं। पोर्टेट सेल्फी में भी अच्छा बोकेह इफेक्ट और डिटेल देखने को मिली। हमने 25 मेगापिक्सल के बजाय 6 मेगापिक्सल वाले पिक्सल-बाइनिंग शॉट्स को प्राथमिकता दी क्योंकि यह ब्राइटर और ज्यादा वाइब्रेंट लगते हैं।
img
img

जहां तक बात वीडियो की है तो रियर कैमरा 30fps या 60 fps और 4K और 30fps पर फुल-एचडी वीडियो रिकॉर्ड कर सकते हैं। मोटोरोला वन विज़न 240 फ्रेम प्रति सेकेंड  या 120 फ्रेम प्रति सेकेंड पर स्लो-मो वीडियो रिकॉर्ड कर सकता है। नेचुरल लाइट में कैप्चर किए गए स्लो-मो वीडियो स्मूथ आए लेकिन जिन वीडियो को इनडोर में रिकॉर्ड किया गया उनमें लाइट फिल्करिंग इफेक्ट देखने को मिला।

इसके अलावा फोन में कलर पिक फीचर भी मिलेगा, यह फ्रेम में केवल आपके पसंद का एक कलर दिखाता है बाकी फोटो ब्लैक और व्हाइट रहती है जिससे तस्वीरें खूबसूरत लगती हैं। इसके अलावा फोन में लाइव सीन फिल्टर्स और पोर्टेट लाइटिंग इफेक्ट भी दिए गए हैं।

Motorola One Vision में जान फूंकने के लिए 3,500 एमएएच की बैटरी दी गई है, यह अपने प्रतिद्वंदी हैंडसेट की तुलना में कम है। हमने कुछ घंटों तक वायर हेडफोन पर म्यूज़िक प्लैबैक, वेब ब्राउज़िंग और दिनभर सोशल मीडिया का इस्तेमाल, प्रोडक्टिविटी ऐप्स जैसे कि स्लेक का इस्तेमाल, कुछ कॉल और एक घंटे तक गेमिंग के बाद फोन मुश्किल से पूरा दिन साथ दे पाया।

औसतन, हमने देखा कि दिन के अंत में घर पहुंचने पर फोन में लगभग 10 से 15 प्रतिशत बैटरी शेष थी। हमें गेम खेलते समय या मल्टी-टास्किंग के दौरान फोन के गर्म होने की समस्या नहीं आई। हमारे एचडी वीडियो बैटरी लूप टेस्ट में, फोन ने 11 घंटे और 45 मिनट तक दिया। चार्जिंग स्पीड की बात करें तो फोन के साथ आने वाला 15 वॉट का टर्बो पावर अडैप्टर फोन को दो घंटे से कम समय में 0 से 100 प्रतिशत तक चार्ज कर देता है।
 

हमारा फैसला

मोटोरोला वन विज़न में आकर्षक डिज़ाइन और होल-पंच के साथ 21:9 डिस्प्ले मिलता है जोकि फिलहाल भारतीय मार्केट में किसी अन्य स्मार्टफोन में नहीं है। स्टॉक एंड्रॉयड उन यूज़र के लिए एक बड़ा फायदा है जो बिना किसी ब्लोटवेयर के एक क्लीन सॉफ्टवेयर अनुभव चाहते हैं। परफॉर्मेंस की बात करें तो Motorola One Vision एक सक्षम फोन साबित होता है, जो किसी भी कार्य को आसानी से हैंडल कर लेता है।

कैमरा आउटपुट भी प्रभावशाली है, विशेष रूप से नाइट विजन मोड जो इस कीमत में बेस्ट लो-लाइट तस्वीरें देता है। Motorola One Vision की बैटरी लाइफ कुछ खास अच्छी नहीं है।

यदि आप एक बेहतर डिस्प्ले, अधिक कैमरा और इन-डिस्प्ले फिंगरप्रिंट सेंसर चाहते हैं तो Samsung Galaxy A50 (रिव्यू) को देख सकते हैं। लेकिन अगर आप होल-पंच डिज़ाइन चाहते हैं तो हाल ही में लॉन्च हुआ Galaxy M40 (रिव्यू) भी एक मजबूत विकल्प है जो ट्रिपल रियर कैमरे और पावरफुल स्नैपड्रैगन 675 प्रोसेसर से लैस है।

थोड़ी कम कीमत पर आपको पिछले-जेनरेशन के मिड-रेंज फ्लैगशिप फोन जैसे Poco F1 मिल जाएगा। इसके बाद अगर बजट थोड़ा और कम है तो Realme 3 Pro (रिव्यू) और Redmi Note 7 Pro (रिव्यू) भी एक अच्छे विकल्प हैं और इन्होंने हमारे 20,000 रुपये से कम के प्राइस सेगमेंट में मिलने वाले बेस्ट स्मार्टफोन की लिस्ट में अपनी जगह बनाई थी।
  • डिज़ाइन
  • डिस्प्ले
  • सॉफ्टवेयर
  • परफॉर्मेंस
  • बैटरी लाइफ
  • कैमरा
  • वैल्यू फॉर मनी
  • खूबियां
  • Appealing design and good build quality
  • Dependable performance
  • Clean Android UI
  • Impressive night vision mode
  • कमियां
  • Below-average battery life
  • Unimpressive display quality
डिस्प्ले6.30 इंच
प्रोसेसरएक्सीनॉस 9609
फ्रंट कैमरा25-मेगापिक्सल
रियर कैमरा48-मेगापिक्सल + 5-मेगापिक्सल
रैम4 जीबी
स्टोरेज128 जीबी
बैटरी क्षमता3500 एमएएच
ओएसएंड्रॉ़यड
रिज़ॉल्यूशन1080
आपकी राय

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें।

संबंधित ख़बरें

पढ़ें: English
 
 

ADVERTISEMENT

 
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2019. All rights reserved.