UIDAI के 18003001947 नंबर को लेकर हुआ विवाद, आपके फोन में भी है क्या...

Share on Facebook Tweet Share Reddit आपकी राय
UIDAI के 18003001947 नंबर को लेकर हुआ विवाद, आपके फोन में भी है क्या...

ख़ास बातें

  • UIDAI का बयान, ऐसा 'निहित स्वार्थ' वाले एक थर्ड पार्टी द्वारा किया गया
  • UIDAI ने आगे बताया कि 18003001947 अब वैध टोल नंबर भी नहीं है
  • अभी तक 1947 नंबर स्टोर किए जाने की खबर नहीं आई है
18003001947, इस नंबर पर गौर करें। यह विवादों में है। विवाद इसलिए, क्योंकि यह टॉल फ्री पता नहीं कैसे, कई भारतीय स्मार्टफोन यूज़र के फोन पर स्टोर हो गया। मज़ेदार बात यह है कि यह टोल फ्री नंबर यूनीक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (यूआईडीएआई) का है। वैसे, आधार कार्ड बनाने वाली इस संस्था ने ट्विटर के ज़रिए मीडिया रिपोर्ट्स को खारिज कर दिया और कहा कि मोबाइल नंबर को स्टोर किए जाने में उसका हाथ नहीं है। UIDAI की मानें तो ऐसा 'निहित स्वार्थ' वाले एक थर्ड पार्टी द्वारा किया गया है, ताकि आम लोगों के बीच गैर-ज़रूरी कंफ्यूज़न पैदा हो। अब यह थर्ड-पार्टी कौन है? इसका जवाब सिर्फ यूआईडीएआई के पास है। लेकिन संस्था की ओर से सिर्फ यही कहा गया है कि उसने टेलीकॉम सर्विस प्रोवाइटर या मोबाइल निर्माता कंपनियों को इस नंबर को हर फोन में स्टोर करने का कोई निर्देश नहीं दिया है।

UIDAI ने आगे बताया कि 18003001947 अब वैध टोल नंबर भी नहीं है। नंबर को दो साल पहले 1947 में तब्दील कर दिया गया था। अथॉरिटी ने कहा कि इस टोल फ्री नंबर के एंड्रॉयड स्मार्टफोन में स्टोर होने की ख़बर है। लेकिन गैजेट्स 360 ने पाया कि 1-800-300-1947 नंबर एंड्रॉयड और आईफोन मॉडल पर मौज़ूद है। गौर करने वाली बात है कि अभी तक 1947 नंबर स्टोर किए जाने की खबर नहीं आई है।

इस बीच सेल्युलर ऑपरेटर्स एसोसियेशन ऑफ इंडिया ने बयान जारी किया है कि कई मोबाइल हैंडसेट के फोन बुक में एक अनजान नंबर मौज़ूद होने में किसी टेलीकॉम प्रोवाइडर का हाथ नहीं है।
आपकी राय

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें।

गैजेट्स 360 स्टाफ मैं भी गैजेट्स 360 के लिए ही काम करता/करती हूं, लेकिन नाम नहीं ... और भी »
पढ़ें: English
 
 

ADVERTISEMENT

 
गैजेट्स 360 स्टाफ को संदेश भेजें
* से चिह्नित फील्ड अनिवार्य हैं
नाम: *
 
ईमेल:
 
संदेश: *
 
2000 अक्षर बाकी